Posted on Updated on

Welcome to My D23 Online Guidance YouTube Videos

पनामा पेपर लीक मामले में पाकिस्तान
के सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को पीएम नवाज शरीफ को दोषी करार दिया। कोर्ट ने शरीफ
के खिलाफ मामला दर्ज करने और शरीफ को पीएम पद के लिए अयोग्य ठहराने का भी आदेश
दिया है। इसके बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। बता दें कि पिछले साल
ब्रिटेन से पनामा के टैक्स डॉक्युमेंट्स का खुलासा हुआ था, जिसमें बताया गया था कि
कैसे दुनियाभर के 140 नेताओं और बड़ी तादाद में सेलिब्रिटीज ने टैक्स हैवन कंट्रीज
में पैसा इन्वेस्ट किया था।

 

नवाज
क्यों
सवालों के घेरे में थे?…
 

नवाज शरीफ के बेटों हुसैन और हसन के अलावा बेटी मरियम नवाज ने टैक्स हैवन माने
जाने वाले ब्रिटिश वर्जिन आयलैंड में कम से कम चार कंपनियां शुरू की थीं। इन
कंपनियों से इन्होंने लंदन में छह बड़ी प्रॉपर्टीज खरीदीं थीं।

– शरीफ फैमिली ने इन प्रॉपर्टीज को गिरवी रखकर डॉएचे बैंक से करीब 70 करोड़ रुपए
का लोन लिया था। इसके अलावा, दूसरे दो अपार्टमेंट खरीदने में बैंक ऑफ स्कॉटलैंड ने
मदद की थी।

 
कोर्ट ने नवाज को दोषी माना, दिया
इस्तीफा

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों के बेंच में जस्टिस आसिफ सईद खोसा, जस्टिस
एजाज अफजल खान, जस्टिस गुलजार अहमद, जस्टिस शेख अजमद सईद और जस्टिस इजाजुल अहसान
शामिल थे। शरीफ के खिलाफ यह फैसला सुप्रीम कोर्ट रूम नं. 1 में सुनाया गया। शरीफ
को सुप्रीम कोर्ट ने दोषी करार दिया है। जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अगुआई वाली पांच
जजों की बेंच ने यह फैसला सुनाया। बेंच ने शरीफ के खिलाफ मामला दर्ज करने और शरीफ
को पीएम पद के लिए अयोग्य ठहराने का भी आदेश दिया है।
 
क्या है पनामा पेपर्स केस

पिछले साल ब्रिटेन में पनामा की लॉ फर्म के 1.15 करोड़ टैक्स डॉक्युमेंट्स लीक हुए
थे। इसमें बताया गया था कि व्लादिमीर पुतिन, नवाज शरीफ, शी जिनपिंग और फुटबॉलर
मैसी ने कैसे अपनी बड़ी दौलत टैक्स हैवन वाले देशों में जमा की। लीक हुए टैक्स
डॉक्युमेंट्स में इस बात का पता चला था कि कैसे दुनियाभर के 140 नेताओं और सैकड़ों
सेलिब्रिटीज ने टैक्स हैवन कंट्रीज में पैसा इन्वेस्ट किया था। इन लोगों ने शैडो
कंपनियां, ट्रस्ट और कॉर्पोरेशंस बनाए और इनके जरिए टैक्स बचाया था।

– लीक हुई लिस्ट खासतौर पर पनामा, ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड्स और बहामास में हुए
इन्वेस्टमेंट्स के बारे में बताती है।

– सवालों के घेरे में आए लोगों ने इन देशों में इन्वेस्टमेंट इसलिए किया, क्योंकि
यहां टैक्स रूल्स काफी आसान हैं और क्लाइंट की आइडेंडिटी का खुलासा नहीं किया
जाता।

– पनामा में ऐसी 3.50 लाख से ज्यादा सीक्रेट इंटरनेशनल बिजनेस कंपनियां हैं।
 
किसके डॉक्युमेंट्स लीक हुए, क्या है
मोसेक?

– ये डॉक्युमेंट्स मोसेक फोंसेका (Mossack Fonseca) के
लीक हुए थे। यह लीगल फर्म है, जिसके 35 देशों में ऑफिस हैं। इन डॉक्युमेंट्स में 2
लाख 14 हजार अकाउंट्स का जिक्र था। ये करीब 40 साल से पनामा की बैंकों में हैं।

– 1977 में बनी मोसेक फोंसेक का हेडक्वॉर्टर पनामा में है। यह दुनियाभर की
कंपनियों या लोगों से मोटी फीस लेकर उन्हें फाइनेंशियल मैटर्स पर एडवाइज देती है।

– इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, एडवाइज की आड़ में यह कंपनी ऑफशोर कंपनियां बना
देती हैं। यानी आप फीस दीजिए और सीक्रेट और आसान टैक्स सिस्टम वाले देशों में
कंपनियां बना लीजिए। यह लीगल फर्म लोगों की ऑफशोर कंपनियां बनाती हैं जो संबंधित
देशों के टैक्स नियमों से तो चलती हैं लेकिन रियल ओनरशिप को छुपा देती हैं।
 
डॉक्युमेंट्स किसे मिले?

– जर्मन अखबार Sueddeutsche
Zeitung
ने अपने एक सोर्स के जरिए ये
डॉक्युमेंट्स हासिल किए। साइज में यह डेटा 2.6 टेराबाइट है। यह विकीलीक्स के
जूलियन असांजे और सीआईए के एक्स एजेंट एडवर्ड स्नोडेन के जारी किए गए डेटा से कई
गुना ज्यादा है

किसने की रिसर्च?
– जर्मन डेली को मिले 1.5 करोड़ टैक्स डॉक्युमेंट्स पर इंटरनेशनल कंजोर्शियम ऑफ
इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) ने रिसर्च की थी। ये डॉक्युमेंट्स 1975 से
2015 तक के थे। इस कंजोर्शियम दुनियाभर के 100 से ज्यादा मीडिया हाउस के 370
जर्नलिस्ट थे। इनमें कुछ भारतीय जर्नलिस्ट्स भी थे।
 
कितने बड़े नाम?

– इस लिस्ट में 12 मौजूदा या एक्स वर्ल्ड लीडर्स शामिल हैं। इनमें रशियन
प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन, पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ, चीन के प्रेसिडेंट शी
जिनपिंग जैसे 140 नेता शामिल थे। पाकिस्तान की पूर्व पीएम बेनजीर भुट्टो का नाम भी
आया था। बता दें कि भुट्टो की एक आतंकी हमले में मौत हो चुकी है। यूक्रेन के
प्रेसिडेंट और हॉलीवुड
स्टार जैकी चैन भी इसी लिस्ट का
हिस्सा थे।


स्पोर्ट्स फील्ड से बड़ा नाम लियोनोल मैसी शामिल का था, वे अर्जेंटीना के फुटबॉलर
हैं।
 
कितने भारतीय?

– इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, इस लिस्ट में 500 भारतीयों, कंपनियों और ट्रस्ट्स
के नाम थे। अमिताभ बच्चन और ऐश्वर्या राय बच्चन भी सवालों के घेरे में आए थे।
डीएलएफ के प्रमोटर केपी सिंह, इंडियाबुल्स के समीर गहलोत, गौतम अडाणी के बड़े भाई
विनोद अडाणी का नाम लिस्ट में था।

अमिताभ और ऐश्वर्या का नाम क्यों?
– अमिताभ:इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, अमिताभ
को चार कंपनियों का डायरेक्टर बनाया गया था। इनमें से तीन बहामास में थीं, जबकि एक
वर्जिन आइलैंड्स में थी। इन्हें 1993 में बनाया गया। इन कंपनियों की ऑथोराइज़्ड
कैपिटल 5 हजार से 50 हजार डॉलर के बीच थी, लेकिन ये कंपनिया उन शिप्स का कारोबार
कर रही थीं, जिनकी कीमत करोड़ों में थी।
 
– ऐश्वर्या:इन्हें पहले एक कंपनी का डायरेक्टर
बनाया गया था। बाद में उन्हें कंपनी का शेयर होल्डर डिक्लेयर कर दिया गया। कंपनी
का नाम अमिक पार्टनर्स प्राइवेट लिमिटेड था। इसका हेडक्वार्टर वर्जिन आइलैंड्स में
था। ऐश्वर्या के अलावा पिता के. राय, मां वृंदा राय और भाई आदित्य राय भी कंपनी
में उनके पार्टनर थे। जानकारी के मुताबिक, यह कंपनी 2005 में बनाई गई। तीन साल बाद
यानी 2008 में बंद हो गई थी।

अमिताभ ने
सफाई में
कहा था- ”मैं पनामा पेपर्स की खबरों के बारे में एक बार फिर दोहराना चाहता हूं कि
मैं उन चार कंपनियों के बोर्ड में कभी डायरेक्टर नहीं रहा, जैसा कि इंडियन
एक्सप्रेस की रिपोर्ट में आया था।’ मैं खुश हूं कि गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने इस
मुद्दे पर जांच शुरू की है। मैं खुद जानना चाहता हूं कि उन चार कंपनियों में मेरा
नाम कैसा आया?

इससे पहले दिए बयान में भी अमिताभ ने कहा था कि उनका इन कंपनियों से कोई रिश्ता
नहीं है।
क्या कहा फर्म ने?
लीक हुए
डॉक्युमेंट्स के बाद मोसाक फोंसेका ने कहा कि यह क्राइम है और इसे हम अपने देश
पनामा पर हमला मानते हैं। कंपनी के मुताबिक, कुछ देशों को हमारी कामयाबी पसंद नहीं
आ रही है। वहीं, पनामा सरकार ने कहा था है कि वह संदिग्ध डील्स को लेकर जीरो
टॉलरेन्स की पॉलिसी पर चलती है और अगर कोई देश कानूनी तौर पर जांच करेगा तो वह
उसकी मदद करेगी।
 

‣ Subscribe (Its Free):  http://www.youtube.com/c/dprasad23
‣ Facebook: http://www.facebook.com/d23onlineguidance
‣ Twitter: http://www.twitter.com/deepak230682
‣ Contact for Online Ads: http://www.dprasad23.com
‣ Website: http://www.utubetutorials.blogspot.in
‣ Google+: https://plus.google.com/communities/111470484558781415103?hl=en

Thank you for watching my youtube videos.
Please Hit the Like Button & Subscribe My Channel…

Advertisements